Wednesday, August 26, 2020

Guruji Status in Hindi, Quotes, Thoughts, Vichar

Shikshak Diwas Status Thoughts shayari and Quotes (GuruJi)

1.     गुरु केवल वह नहीं माना जाता जो कक्षा में पढ़ाता है बल्कि हर वह इंसान जिससे हमें शिक्षा मिलती है हम उनसे सीखते हैं वही हमारा गुरु माना जाता है।

Guruji Status in Hind


2.     शिक्षा एक ऐसी कड़ी तपस्या मानी जाती है, जो इंसानियत का पाठ पढ़ाती है।

guruji status


3.     कबीरदास जी का एक शिक्षक के संबंध में मानना है- गुरु गोविंद दोऊ खडे काके लागू पाय बलिहारी गुरु आपने गोविंद दियो बताए।

guruji status hindi


4.     एक गुरु का स्थान परमात्मा से भी ऊपर माना जाता है क्योंकि गुरु वह होता है जो हमें परमात्मा तक पहुंचने का रास्ता बताता है।

guruji thoughts in hindi


5.     ज्ञान तो हमें पुस्तकों से भी हासिल हो जाता है, उसी ज्ञान को जीवन के अनुभव के साथ जोड़कर एक शिक्षक हमें जो ज्ञान देता है वही हमारा जीवन सार्थक बनाती है।

6.     ज्ञान के बिना तो इंसान भी पशु के समान बन जाता है।

7.     बच्चों के भविष्य के निर्माण का सबसे बड़ा जिम्मेदार इंसान का उसका शिक्षक ही माना जाता है।

8.     खुद श्री राम और श्री कृष्ण को भी गुरु की आवश्यकता पड़ी क्योंकि गुरु के बिना ज्ञान हासिल करना संभव नहीं है।

9.     एक गुरु के बिना आप सिर्फ पढ़ सकते हैं ज्ञानी नहीं बन सकते हैं।

10. गुरु वह इंसान है जो अपने अनुभवों का निचोड़ निकालकर अपने छात्रों को बताता है और गलतियों से सीख लेने के प्रति हमें उत्साहित भी करता है।

11. एक अच्छे शिक्षक ही एक सफल राष्ट्र का निर्माण करने में सहायक सिद्ध होते हैं।

12. दुनिया में सबसे बड़ा दान ज्ञान का दान माना जाता है क्योंकि धन का दाम कुछ वक्त तक सुख दे सकता है किंतु ज्ञान इंसान को उम्रभर सुख देता है।

13. गुरु की जिम्मेदारी होती है कि वह बच्चों को ना केवल किताबी ज्ञान दें बल्कि उन्हें अच्छे संस्कार भी दें।

14. आप के संस्कारों से पता लगाया जा सकता है कि आपके शिक्षकों ने आपको क्या सिखाया है।

15. शिक्षक एकता की बुद्धि का सृजन करता है, वह जो भी बीज बोता है वैसे ही पेड़ उग आता है।

16. अगर शिक्षा देने वाला गुरु ना होता तो दुनिया आज भी अज्ञानता के अंधेरे में भटक रही होती।


17. गुरु वह इंसान होता है जो हमें अज्ञान से ज्ञान की तरफ ले जाता है।

18. कबीरदास जी का मानना है कि गुरु की महिमा का वर्णन करना शब्दों में असंभव है।

19. ज्ञान का उद्देश्य सिर्फ नौकरी पाना ना होकर बल्कि बच्चों का विकास शिक्षा का पहला मुख्य उद्देश्य होना चाहिए।

20. गुरु की कोई उम्र नहीं मानी जाती यदि आप अपने से छोटी आयु के इंसान से कुछ भी सीखते हैं तो भी वह आप का गुरु माना जाएगा।

21. ज्ञान प्राप्त करने की कोई निश्चित आयु नहीं होती इसे जीवन भर कभी भी सीखा जा सकता है।

22. जिस इंसान का सीखना खत्म हो जाता है मानव उसकी जिंदगी ही खत्म हो जाती है।

23. इंसान की सबसे पहली शिक्षक उसकी मां होती है।

24. मनुष्य अपने जीवन में सबसे अधिक समाज में रह कर सीखता है और इसके पश्चात वह अपनी संगति में रहने वाले लोगों से सीखता है।

25. जो इंसान अपने गुरु और अपनी शिक्षा का निरादर करता है वह जीवन में कभी भी कामयाब नहीं हो सकता


26. माता-पिता बालकों को जन्म जरूर देते हैं लेकिन एक गुरु बालक का बौद्धिक निर्माण करता है।

27. आप द्वारा की गई गलती है आपकी सबसे बड़ी शिक्षक मानी जाती है क्योंकि मनुष्य अपने द्वारा की गई गलतियों से सबसे ज्यादा सीखता है।

28. गुजरे हुए समय को भूल जाना उचित रहता है किंतु गुजरे हुए समय में की हुई गलतियों से मिली शिक्षा को कभी नहीं भूलना चाहिए।

29. एक महान गुरु सिर्फ ज्ञान ही नहीं देता बल्कि बच्चों को प्रेरित भी करता है।


30. बालकों में शिक्षा के प्रति प्रेम को जगाना एक शिक्षक का कर्तव्य होता है।

31. एक गुरु को चाहिए तो शिक्षा को इतना आसान और पढ़ने योग्य बनाएं के सभी बालक इसे आसानी से ग्रहण कर सकें।

32. एक अच्छा दोस्त वही होता है जो बच्चों के नाम तक को भी पढ़ लेता है।

33. छात्रों को सवाल पूछने के लिए उत्साहित करना एक शिक्षक का अधिकार होता है बच्चे जितना ज्यादा सवाल पूछेंगे इससे उनके ज्ञान में बढ़ोतरी उतनी ही ज्यादा होगी।

34. एक गुरु और छात्र का रिश्ता पृथ्वी पर सबसे बड़े रिश्ते में से एक माना जाता है।

35. बालक के भविष्य का सबसे प्रथम पत्थर शिक्षक ही रखता है।

36. गुरु समाज का सबसे आदरणीय इंसान होता है।

37. गलतियों से ही सबसे बड़ी सीख और शिक्षा हासिल होती है उनसे सीखते रहना चाहिए।

38. जो लोग दूसरों को शिक्षा या फिर कुछ सिखाने से कतराते रहते हैं बहुत अच्छे शिक्षक नहीं बन पाते।

39. शिक्षा एक ऐसी अमूल्य वस्तु है जिसका कोई मूल्य नहीं चुकाया जा सकता है।

40. मनुष्य और जानवरों में एक बड़ा अंतर है कि इंसान सीखता है और शिक्षा ग्रहण करता है।

41. गुरु तो वह जौहरी होता है जो बच्चों की बृद्धि को तराशकर उन्हें हीरों की तरह चमका देता है।

42. ज्ञान का सबसे बड़ा लक्ष्य है एक अच्छे चरित्र का निर्माण करना।

43. शिक्षित और साक्षर में सबसे बड़ा अंतर यही होता है कि साक्षर को सिर्फ किताबी ज्ञान हासिल होता है किंतु शिक्षक इंसान को सही और गलत, अच्छा-भला आदि हर विषय का ज्ञान प्राप्त होता है।

44. सिर्फ शिक्षित नहीं बल्कि सुशिक्षित भी बनिये।


45. सच्चा गुरु अनुभवों से शिक्षा देता है न के किताबों से।

46. माता करुणा , निर्भयता और प्रेम की सबसे बड़ी गुरु है।

47. कामयाबी अच्छी शिक्षक नहीं होती बल्कि जीवन में असफलता को ही अच्छे शिक्षक माना जाता है। क्योंकि जीवन में असफल होने से हमें अपनी गलतियों का एहसास होता है और हमें उनसे बहुत कुछ सीखने को मिलता है इसलिए असफलता मिलने पर अपनी गलतियों से सीखने की कोशिश जरूर करें।

48. जब तक के बच्चों के मन से डर नहीं जाएगा तब तक उन्हें अच्छी शिक्षा हासिल नहीं हो सकती।

49. एक अच्छा शिक्षक बच्चों को जागरूक और उत्साहित बनाता है।

50. एक अच्छा गुरु बालकों को उत्साहित और प्रेरित विचार सिखाता है।

51. अध्यापन एक पेशा नहीं होता बल्कि यह एक शिक्षक का समाज को बहुत बड़ा योगदान माना जाता है।

52. इंसान की अंतरात्मा सबसे महान गुरु मानी 


SHARE THIS

Author:

EssayOnline.in - इस ब्लॉग में हिंदी निबंध सरल शब्दों में प्रकाशित किये गए हैं और किये जांयेंगे इसके इलावा आप हिंदी में कविताएं ,कहानियां पढ़ सकते हैं

0 comments: