Sunday, August 23, 2020

Trees are our Best Friends Essay in Hindi Language - पेड़ हमारे सच्चे मित्र हैं निबंध

Trees are our Best Friends Essay in Hindi Language

पेड़ मानव के सच्चे मित्र हैं। मानव का प्रकृति के साथ अटूट सबंध रहा है पेड़ -पौधे हमारे जीवन का आधार हैं इनके बिना हमारा जीवन अधूरा है। यह बड़े ही परोपकारी होते हैं वे हमें शुद्ध हवा देते हैं। पेड़ बारिश करने में सहायक होते हैं और बाढ़ को रोकने में मदद करते हैं। पेड़ों के बिना जीवन की कल्पना तक नहीं की जा सकती है। इनकी सबसे ख़ास बात तो यह है के यह मनुष्य और अन्य प्राणियों के द्वारा छोड़ी गयी कार्बनडाईऑक्साइड गैस को खींच लेते हैं और बदले में हमें ऑक्सीजन देते हैं।
पेड़ों (Trees) की जड़ें भूमि के कटाव को रोके रखने में सक्षम होती हैं जिससे भूमि मारुथल बनने से बचती है। इसके इलावा पेड़ो -पौधों से हमें फ़ल और भोजन प्राप्त होता है। पेड़ों से हमें लकड़ी प्राप्त होती है जिसे हम ईंधन और फर्नीचर आदि बनाने में प्रयोग करते हैं। पेड़ों से कई प्रकार की जड़ी बूटियां तैयार की जाती हैं जो कई प्रकार की बीमारियों में सहायक होती हैं। पेड़ों की इतनी सारी उपयोग्ताओं के कारण इन्हें मूल्यवान माना जाता है।

Trees are our Best Friends Essay in Hindi


Save Tree Essay in Hindi

यह सब जानते हुए भी के पेड़ -पौधे हमारे कितने बड़े मित्र हैं जो हमारी जिंदगी में कितने सहायक होते हैं मानव अपनी  कुछ सुख सुविधाओं के लिए इन पेड़ों का दुश्मन बन बैठा है  वे पेड़ों की अंधाधुंध कटाई कर रहा है जिस वजय से प्रकृति का संतुलन बिगड़ रहा है प्रदूषण की समस्या बड़ रही है और धरती के रक्षा कवच में प्रदूषण के कारण दरार पड़ रही है और धरती लगातार गर्म हो रही है।
इसीलिए दोस्तों पेड़ो के प्रति हमें कुछ जागरूकता देखानी होगी जिससे हम इन बढ़ती हुई समस्याओं को रोक सकें।
पेड़ों (Trees) के कारण ही बारिश का बहुत सारा जल नाले नदियों में जाने की वजाय पेड़ों द्वारा सोख लिया जाता है जिससे बाढ़ का खतरा कम हो जाता है। इसीलिए पेड़ों को काटना यानि के अपने जीवन को संकट में डालना है इसीलिए हमें पेड़ों की रक्षा करनी चाहिए और ज्यादा से ज्यादा नए पेड़ लगाने चाहिए।
अंत : पेड़ -पौधे हमारे मित्र हैं इन्हें बचाना हमारा सब का कर्तव्य बनता है।

SHARE THIS

Author:

EssayOnline.in - इस ब्लॉग में हिंदी निबंध सरल शब्दों में प्रकाशित किये गए हैं और किये जांयेंगे इसके इलावा आप हिंदी में कविताएं ,कहानियां पढ़ सकते हैं

0 comments: